TYPES OF TRADING

 

type of trading, moneycontol, noteindia


Trading का अर्थ है किसी वस्तु या सेवा को लाभ कमाने के मकसद से खरीदना और बेचना 

TRADING का हिंदी अर्थ व्यापार होता है, जब हम कोई वस्तु या सेवा इसी उद्देश्य से खरीदते है की उस वस्तु और सेवा को कुछ समय बाद बेच कर हम उससे लाभ कमाएंगे तो इस कार्य को TRADING कहा जाता है, हम अपने आस पास जितने भी व्यापार होते देखते है चाहे राशन या सब्जी की दुकान हो अन्य दुकान हो सभी दुकानदार वस्तु या सेवा इस उद्देश्य से खरीदते है ताकि वे उसे बेच कर लाभ कमा सके.

. Must Read- BENIFITS OF SHARE MARKET

TRADING IN STOCK MARKET

हमने देखा की TRADING का अर्थ, यानि वस्तु या सेवा लाभ कमाने के उद्देश्य से ख़रीदा या बेचा जाता है, ठीक इसी तरह STOCK MARKET में कोई भी SHARE खरीदते है, तो हमारा मुख्य उद्देश्य होता है, उस SHARE के भाव बढ़ जाने पर उसे बेच कर लाभ कमाया जा सके, और इस तरह STOCK MARKET में भाग लेने वाले लोग जब कोई शेयर खरीदते और बेचते है तो उनकी ये क्रिया STOCK MARKET TRADING कहलाता है.

HOW MANY TYPES OF TRADING IN THE STOCK MARKET

TRADING शब्द INVESTMENT की अपेक्षा जल्दबाजी और रिस्की लगता है, और ये काफी हद तक सही भी है, क्युकि TRADING करने वाले व्यक्ति हमेशा मौके के इन्तेजार में रहता है और जैसे ही उसे सही मौका दीखता है, वो अपने शेयर को बेच कर लाभ कमा लेता है.

मुख्य रूप से TRADING तीन प्रकार के होते है.

1. INTRADAY TRADING

ऐसे TRADE जो एक दिन के अन्दर ही पुरे कर लिए जाते है, यानि शेयर उसी दिन खरीद कर उसी दिन बेचने के कार्य को INTRADAY TRADING कहा जाता है, जैसे सुबह 9 :15 में market खुलने के बाद शेयर खरीदना और उसी दिन शाम 3:30 में market बंद होने से पहले आप उसे बेच दे, हमेशा देखा गया है की एक INTRADAY TRADER एक दिन में 5-6 TRADE करते है, इस तरह की TRADING के लिए BROKER कंपनी आपको आपके पास उपलब्ध रकम के दस गुना ज्यदा मार्जिन देती है, की आप उनसे दिन भर उधार लेकर आप TRADING करके लाभ कमाओ और उसी दिन शाम तक आप उनको उनका पैसा शेयर बेच कर उन्हें लौटा दो.

2. SCALPER TRADING

ऐसे ट्रेड जो कीच मिनट के अन्दर ही पुरे कर लिए जाते है, यानि शेयर खरीदने के कुछ मिनट के अन्दर ही उसे बेच दिए जाये तो इसे SCALPER TRADING कहा जाता है, जैसे सुबह 9;15 में market खुलने के बाद stock खरीदना और खरीदने के 5-10 मिनट के अन्दर उसे बेच कर लाभ कमाना, इस तरह की ट्रेडिंग में अमाउंट ज्यदा होती है, जैसे आप एक लाख रुपए लगते है और उसमे आप 10 रुपए के शेयर 10000 शेयर खरीदते है तो यदि 10 पैसा भी बढ़ गया हो तो आप 1000 रुपए का लाभ कमा लेंगे 

इस तरह के ट्रेडिंग के लिए ब्रोकर कंपनी आपके पास उपलब्ध रकम से दस से बीस गुना ज्यादा पैसा देती है जिससे आप उस दिन ट्रेडिंग करके शाम तक पैसा लौटा दो.

3. SWING TRADING

ऐसे ट्रेडिंग जो कुछ दिन, हफ्ता या महीने के अन्दर ही पुरे कर लिए जाते है, यानी शेयर खरीदने के बाद उसे कुछ दिन, हफ्ते या कुछ महीने तक अपने पास रखते है और उसके सही भाव बढ़ने का इन्तेजार करते है, जैसे जून में ख़रीदा गया शेयर जुलाई, अगस्त या सितम्बर तक बेचना, इस तरह के SHARE BUYING को SHARE DELIVERY पर खरीदना कहते है.

इस तरह के ट्रेड में ट्रेडर अपने शेयर्स के भाव में दिनों के हिसाब से 5-10 प्रतिशत से ज्यदा भाव बढ़ने की आशा के साथ ट्रेड करते है, इस तरह के ट्रेड में पुरा पैसा ट्रेडर का लगा होता है, इसमें कंपनी किसी तरह का कोई MARGIN MONEY नही देती है.

NOTEINDIA.ONLINE

Post a Comment

Previous Post Next Post