BROKERAGE CHARGES

 

stock market में सभी खरीद या बिक्री के ऊपर कुछ चार्ज लगते है, जिन्हें stock market charges कहते है, जो की एक शेयर खरीदने और बेचने केलिए स्टॉक के मूल्य के साथ दिए जाने स्टॉक ब्रोकर कमीशन और टैक्स कहें  जा सकते है. आज हम इसी stock market charges के बारे में बात करेंगे.

brokerage charges, moneycontrol


TRADING TYPE IN STOCK MARKET

stock market में दो तरह के ट्रेडिंग होते है.

1. इंट्राडे ट्रेडिंग- जिस दिन खरीदना उसी दिन बेचना होता है.

2. पोजिशनल ट्रेडिंग - खरीदने के अगले दिन या उसके बाद भी बेच सकते है.

. Must Read- THE WAY OF MAKING MONEY IN STOCK MARKET

TRADING SEGMENT OF STOCK MARKET

stock market में ट्रेडिंग करने के अलग अलग सेगमेंट भी बनाये गए है.

EQUITY SEGMENT- जिसमे सिर्फ स्टॉक को खरीदने या बेचने का काम होता है.

Derivative Segment- जिसमे स्टॉक्स फ्यूचर और stocks option ख़रीदने और बेचने का काम होता है.

Commodites option- जिसमे commodites future और commodites option ख़रीदे और बेचे जाते है,

Currencies Segment- जिसमे currencies future और currencies option ख़रीदे और बेचे जाते है,

ये चार stock market में मुख्य सेगमेंट है जिसमे लोग ट्रेडिंग करते है, चाहे वो इंट्राडे ट्रेडिंग हो या पोजीशनल ट्रेडिंग, ऐसे में इन अलग अलग सेगमेंट में charges भी अलग अलग होते है.

आप जिस भी सेगमेंट में ट्रेडिंग करने जा रहे है, उस सेगमेंट में लगने वाले charges के बारे में अपने stock ब्रोकर से जरुर पता कर ले, ताकि आपको अपने सौदे पर लगने वाले सभी तरह के charges के बारे में अच्छी तरह से पता हो,

STOCK MARKET CHARGES

यहाँ पर हम बात करेंगे stock market charges के उन कॉमन charges के बारे में जो की खास तौर से equity segment में लगते है,

WHAT IS STOCK BROKERAGE

stock brokerage वो charge होता है,जो हमारा stock ब्रोकर stock खरीदने या बेचने पर कमीशन ब्रोकरेज के रूप में लेता है, इसे brokerage या brokerage fee के नाम से जानते है,

ध्यान रहे सभी stock ब्रोकर, अकाउंट खोलते समय ही आपको बता देते है, की वो stock market के अलग अलग सेगमेंट और stock market ट्रेडिंग टाइप में आपसे कितना BROKERAGE लेंगे.

WHAT IS SST

SST का फुल्फोर्म Securities Transaction Tax

SST भारत में किसी भी RECOGNIZED stock एक्सचेंज से Securites Transaction( BUY OR SELL) के समय लगाया जाता है,

STT centeral govt के द्वारा तय किया जाता है, और कितने प्रतिशत charge किया जाता है,

STT के संबंध में एक खास बात याद रखनी चाहिए वो की इंट्राडे में STT किसी stock बेचने पर ही लगायी जाती है, जो अभी 0.025 प्रतिशत है.

जबकि DELIVERY BASED ट्रेडिंग में SST किसी stock को खरीदने और बेचने पर दोनों पर लगायी जाती है, जो की अभी 0.1% है,

WHAT IS STAMP DUTY

Stamp Duty राज्य द्वारा लगाया जाने वाला टैक्स फीस है, जो की निवेशक के अपने ADDRESS में आने वाले राज्य द्वारा तय किये गए RATE के अनुसार लगाया जाता है,

अगर महाराष्ट्र की बात की जाये तो equity सेगमेंट में stamp duty फीस 

इंट्रा डे में- 0.002 % और डिलीवारी  ट्रेडिंग में 0.01 %

आप अपने ब्रोकर के पास से आपके राज्य में लगने वाले stamp duty का रेट पता क्र सकते है,

WHAT IS TRANSACTION CHARGES

TRANSACTION CHARGES या TURNOVER CHARGESभी कहा जाता है, जो की stock एक्सचेंज द्वारा Exchange transaction  charges + clearing charges  के रूप में लगाया जाता है,

अभी NSE- 0.00325% और BSE- 1.50 

WHAT IS SEBI TURNOVER

नाम से ही स्पष्ट है SEBI TURNOVER CHARGES यानि SEBI द्वारा stock एक्सचेंज पर लगाये जाने वाला ट्रेड के बदले लगाया जाने वाला फीस 

GST CHARGES

सेंट्रल govt द्वारा stock market सर्विसेज के ऊपर लगाया जाने वाला टैक्स जो पहले सर्विस टैक्स के नाम से लगाया जाता था, जो जुलाई 2017 में GST लागु होने के बाद GST charges के नाम से टैक्स लगा जाता है,

GST charges के संबंध में एक बात याद रखने वाली है की अभी GST की रेट 18% है,जो की पुरे TURNOVER पर नही बल्कि TURNOVER पर लगाये गए brokerage + transation charges के ऊपर लगाया जा रहा है,

WHAT IS DEPOSITORY PARTICIPANT CHARGES

DP charges  The National Securities Depository LTD (NSDL) AND TheCentral Depository Services India LTD (CDSL) द्वारा लगाया जाने वाला charges है,

आपका DEMAT ACCOUNT जिस ब्रोकर के पास से है, वहां से आप सभी चार्जेज  के बारे में जान   सकते है.

NOTEINDIA.ONLINE


Post a Comment

Previous Post Next Post